Tuesday, 13 March 2012

मृत्यु-भोज



1 बछिया,खटिया और साईकल
सूते के सब सामान|
कितना सेर खाए के अनाज,
इंतजाम करी हम जजमान|

सारा गाँव के भोज कराई
दी ११ ब्राम्हण के दान|
खाए के खुद औकात ना
नियति ई बड़ा बेईमान|

 
साया उठल बाप के हमसे,
दर्द केहू के दिखत नाहीं|
निबही कईसे ई रीत अब
मर्म केहू के सुझत नाहीं|

बेटी के कपड़ा उधरल बा,
बेटा भूख से बिलखत बा|
मेहरारू के ईलाज नाहीं,
दाल-रोटी के किल्लत बा|


मरला पे भोज कईसन
मातम में उत्सव काहें?
मरला के बाद भी
जिंदा रहे के श्राप काहें?


कर्जा काढी के रीत निभाई,
ना तो कुल-भ्रष्ट हमार|
दाना-पानी बंद तब,
मृत्यु-भोज प्रान ली हमार|

स्वाति वल्लभा राज

9 comments:

  1. सच में,सामजिक कुरीतियाँ लील जाती हैं गरीबों को.....मृत्यु भोज जितना खर्च इलाज में कराते तो शायद मौत ही ना आती...

    सार्थक रचना..

    ReplyDelete
  2. ये बात आपने बहुत ही सही कही है ,जीते जी तो जीने -खाने में भले ही मुश्किल कर दो,बेहाली में छोड़ दो...पर मरने के बाद महाभोज का आयोजन करना जरुरी है..आखिर शान -शौकत का जो मामला है ...और इनका सबसे बुरा असर गरीबो पर होता है..
    लाजवाब है आपकी यह प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  3. ज़िंदा रहते जिसकी जितनी सेवा नहीं की मरने के बाद उसके नाम से ये सब ड्रामा करने की क्या ज़रूरत?
    आपने बिलकुल सटीक लिखा है।


    सादर

    ReplyDelete
  4. कल 15/03/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  5. बात त बिलकुल सही बा , कुरीतियाँ अगर दूर कर दिहल जाय तभी जीवन सुखी हो सकेला

    ReplyDelete
  6. ये सामाजिक रीतियाँ नहीं कुरीतियाँ हैं जिन्हें समाज के लोगों ने ही मिल बैठ के दूर करता है ... सार्थक प्रयास है आपका ...

    ReplyDelete
  7. सटीक चित्रण...
    इक्कीसवी सदी में भी समाज आडम्बरों से ऐसन ग्रसित बा, इ चिंता के विषय ह.

    ReplyDelete
  8. vicharneey post

    ReplyDelete
  9. .बेहतरीन प्रस्‍तुति

    ReplyDelete