Sunday, 18 November 2012

छठ गीत



घटवा पे डूबी उगल बढल जाला,
पनिया में जहर माहुर बितुरल जाला |
सुनी न लोगी
छठी के दिन आइल 
घटवा के दुबिया गढ़ी
पनिया के साफ़ करिल |

खरना के दिनवा निजका आवल जाला
अरगा के बेरा हाली निजकल जाला|
फल दौरा सुपलिया
ईंखवा के साजल जाइल
चंदनी से कोसी 
सुन्दर ढाकल जाईल |

मनवा में हरषी हरषी भूखल जाला
आदित के भोरे सांझी अरगी जाला|
सुनी ना, सूरज देव
जल्दी जल्दी उग गईल
छठी के परव पावन
खूब सुन्दर भईल|

स्वाति वल्लभा राज

6 comments:


  1. कल 19/11/2012 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. BAHUT SUNDAR ABHIVYAKTI ...... मनवा में हरषी हरषी भूखल जाला
    आदित के भोरे सांझी अरगी जाला|
    सुनी ना, सूरज देव
    जल्दी जल्दी उग गईल
    छठी के परव पावन
    खूब सुन्दर भईल|

    ReplyDelete
  3. manva ke mohi lihles,tohari e batiya

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद मधुजी ...:)

      Delete
  4. बहुत सुंदर भावनायें और शब्द भी ...बेह्तरीन अभिव्यक्ति ...!!शुभकामनायें.

    ReplyDelete